28 C
Jaipur
November 21, 2018
City Market News
commodity business in petrol and diesel
Home » रुपये के कमजोर या मजबूत होने का मतलब क्या है?
Guide For You

रुपये के कमजोर या मजबूत होने का मतलब क्या है?

रुपया कमजोर हो गया। रुपया मजबूत हुआ है। इस तरह का अक्सर हम सुनते है। आप जानते है कि रुपये के कमजोर या मजबूत होने का अर्थ क्या है? रुपया कमजोर कब होता है और इसका हम पर क्या असर होता?  जानते है—

रुपये की कीमत इसकी मांग और आपूर्ति से तय होती है। आयात-निर्यात रुपये की कीमत को सर्वाधिक प्रभावित करते है। हर देश का अपना विदेशी मुद्रा भंडार होता है। इससे वे विदेशों में आयात-निर्यात करते है। भारत में विदेश मुद्रा भंडार पर नियंत्रण आरबीआई का रहता है। विदेशी मुद्रा भंडार सरकार की नीतियों और आर्थिक सुधार के प्रयासों से भी प्रभावित रहता है।

यह तो हम जानते है कि अमेरिकी डॉलर को वैश्विक करेंसी है। आयात-निर्यात होने वाली ज्यादातर वस्तुओं को मूल्य डॉलर में चुकाया जाता है। ज्यादातर देश कारोबार में डॉलर का प्रयोग करते है, इस वजह से अमेरिकी डॉलर वैश्विक करेंसी बन चुकी है। भारत का अंतरराष्ट्रीय कारोबार भी डॉलर में होता है।

डॉलर का मूल्य रुपये की तुलना ज्यादा

जब हम क्रूड यानि कच्चा तेल, खाद्य पदार्थ या और कोई सामान विदेश से खरीदते है तो हमे डॉलर में उसकी कीमत चुकानी पड़ती है। जिनती ज्यादा मात्रा में सामान मंगवाएंगे, उतने ही ज्यादा डॉलर देने होंगे। ज्यादा डॉलर देने से हमारा विदेशी मुद्रा भंडार कम हो जाएगा। क्योंकि डॉलर का मूल्य रुपये की तुलना ज्यादा है। ऐसे में हमें अपना विदेशी मुद्रा भंडार बनाए रखने के लिए ज्यादा रुपयों की जरुरत होगी। विभिन्न कारणों से इंटरनेशनल मार्केट में वस्तुओं कीमतों में कमी-बढ़ोतरी होती रहती है।

इसका ताजा उदाहरण कच्चे तेल की कीमतें है। अमेरिका इरान पर प्रतिबंध लगाने जा रहा है। इसके चलते कच्चे तेल के दाम बढ़ गए। अब हमें इसके लिए ज्यादा डॉलर देने होंगे। इसका असर हमारे विदेशी मुद्रा भंडार पर पड़ रहा है और रुपए की वैल्यू कम हो गई।

रुपये में गिरावट हम पर क्या असर?

भारत अपनी जरूरत का करीब 80% पेट्रोलियम उत्पाद आयात करता है। रुपये में गिरावट से पेट्रोलियम उत्पादों का आयात महंगा हो जाता है। इस वजह से तेल कंपनियां पेट्रोल-डीजल के भाव बढ़ा देती है और उसका असर हमारी जेब पर पड़ता है। ट्रांसपोर्टेशन चार्जेज बढ़ने से महंगाई बढ़ जाती है।

Leave a Comment

City Market News (सिटी मार्केट न्यूज़)
City Market News is a business news portal. Here you will get to read news in Hindi covering all the buzz and happenings of local business world. You may also publish your own business offers on this portal.