13 C
Jaipur
December 11, 2018
City Market News
Home » इन 2 एक्सप्रेस वे से बदलेगी कई शहरों की दशा, PM करेंगे उद्घाटन
National

इन 2 एक्सप्रेस वे से बदलेगी कई शहरों की दशा, PM करेंगे उद्घाटन

PM नरेन्द्र मोदी NCR में नवनिर्मित्त 2 एक्सप्रेस वे राष्ट्र को समर्पित करेंगे। इनमें से पहला दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे 14 लेन का है।

NH का 8.360 किमी का यह हिस्सा लगभग 841.50 करोड़ रुपये की लागत से 30 महीनों के रिकॉर्ड समय में तैयार हो गया है। इसमें 6 लेन का एक्सप्रेस वे और 4प्लस4 की सर्विस लेन शामिल है। दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे परियोजना का लक्ष्य दिल्ली एवं मेरठ के बीच तथा इससे और आगे, उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंड के साथ तेज एवं सुरक्षित संपर्क उपलब्ध कराना है। परियोजना की कुल लंबाई 82 किमी है। शुरु की 27.74 किमी की लंबाई 14 लेन होगी जबकि शेष 6 लेन का एक्सप्रेस वे होगा। इस परियोजना पर 4975.17 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है।

यह ऐसा पहला एक्सप्रेसवे होगा जिसमें दिल्ली एवं डासना के बीच लगभग 28 किमी के खंड पर समर्पित बाइसिकिल ट्रैक होगा। इस परियोजना में 11 फ्लाईओवरों/इंटरचेंज, 5 बड़े एवं छोटे पुल, तीन रेल ओवरब्रिज, 36 वाहनों के लिए तथा 14 पैदल यात्रियों के लिए अंडरपास होंगे। पूरी परियोजना के संपन्न हो जाने के बाद दिल्ली से मेरठ जाने में केवल 60 मिनट लगेंगे। 

5900 करोड़ की 1700 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण 

रविवार को राष्ट्र को समर्पित की जाने वाली दूसरी परियोजना ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे (ईपीई) है जो राष्ट्रीय राजमार्ग 1 पर कोंडली से राष्ट्रीय राजमार्ग 2 पर पलवल तक 135 किमी लंबा खंड है। प्रधानमंत्री ने इस परियोजना के लिए शिलान्यास 5 नवंबर, 2015 को किया था।

पश्चिमी एवं पूर्वी दिल्ली से राष्ट्रीय राजमार्ग 1 एवं राष्ट्रीय राजमार्ग 2 को जोड़ते हुए वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे (डब्ल्यूपीई) एवं ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे (ईपीई) से निर्मित्त दिल्ली के चारों ओर पेरिफेरल एक्सप्रेसवे की परियोजना की परिकल्पना ऐसे ट्रैफिक को डायवर्ट करने के द्वारा, जिनका गंतव्य दिल्ली नहीं हैं, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र को भीड़भाड़ एवं प्रदूषण से बचाने के लिए की गई है। ईपीई के लिए लगभग 5900 करोड़़ रुपये की लागत से कुल 1700 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया गया है। M

पहला एक्सप्रेस वे है जिसमें 135 किमी की लंबाई में सौर बिजली का उपयोग किया गया है

परियोजना की निर्माण लागत लगभग 4617.87 करोड़ रुपये है। एक्सप्रेसवे लगभग 500 दिनों के रिकॉर्ड समय में तैयार हो गया है जबकि निर्धारित लक्ष्य 910 दिनों का था। एक्सप्रेसवे में 4 बड़े पुल, 46 छोटे पुल, तीन फ्लाईओवर, 7 इंटरचेंज, 221 अंडरपास, 8आरओबी एवं 114 पुलिया (कल्वर्ट) हैं। इस परियोजना ने लगभग 50 लाख मानव दिवसों के लिए रोजगार की संभावनाएं सृजित की हैं।

यह देश का ऐसा पहला एक्सप्रेसवे है जिसमें पूरी 135 किमी की लंबाई में सौर बिजली का उपयोग किया गया है। अंडरपासों को रौशन रखने वॉटरिंग प्लांटों के लिए सौर पंपों के परिचालन के लिए इस एक्सप्र्रेसवे पर 4000 किलोवॉट (4 मेगावॉट) की क्षमता के आठ सौर बिजली संयंत्र हैं। ईपीई पर प्रत्येक 500 मीटर पर वर्षा जल संचयन का प्रावधान किया गया है तथा पूरे ईपीई पर ड्रिप सिंचाई भी है। भारतीय संस्कृति एवं विरासत को प्रदर्शित करती स्मारकों की 36 प्रतिकृतियां भी हैं।

Leave a Comment

City Market News (सिटी मार्केट न्यूज़)
City Market News is a business news portal. Here you will get to read news in Hindi covering all the buzz and happenings of local business world. You may also publish your own business offers on this portal.