16 C
Jaipur
December 14, 2018
City Market News
Home » 2 हजार के नोट की छपाई बंद, विधानसभा चुनाव कारण तो नहीं
Banking

2 हजार के नोट की छपाई बंद, विधानसभा चुनाव कारण तो नहीं

2 हजार रुपए के नोटों की छपाई सरकार ने बंद कर दी है। 2 हजार के नोट की छपाई बंद करने का फैसला सरकार ने क्यों लिया ? इसके कई मायने लगाए जा रहे हैं।

देश में 2 हजार के नोट की छपाई बंद कर दी गई है। सरकार ने कहा है कि अब 2 हजार मूल्य के नए नोट फिलहाल नहीं छापे जाएंगे। आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग के अनुसार, 500, 200 और 100 रुपए मूल्य के नोट लेनदेन में ज्यादा सुविधाजनक हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार गर्ग का कहना है कि 500 रुपए के नोटों की अतिरिक्त मांग पूरी करने के लिए इसकी छपाई बढ़ा दी गई है। हर दिन 3000 करोड़ रुपए तक इसे कर दिया गया है। नरेंद्र मोदी की सरकार ने 8 नवंबर 2016 को एक ऐतिहासिक फैसला लिया।  देश में 500 रुपए और 1000 रुपए के नोटों का लेनदेन अचानक बंद कर दिए।

इस अप्रत्याशित फैसले से देश में हडकंप मच गया। बाद में 500 रुपए और 2 हजार का नया नोट जारी किया। नोटबंदी को लेकर मोदी सरकार का दावा ​है कि ये फैसला आर्थिक सुधार और कालेधन पर अंकुश लगाने के लिए किया गया। अब सरकार ने कहा है कि फिलहाल 2 हजार के नए नोट नहीं छापें जाएंगे।

जानकारी के अनुसार, इस वक्त 2 हजार के 7 लाख करोड़ रुपए मूल्य के नोट चलन में हैं। सरकार का मानना है कि यह जरूरत से अधिक हैं। इसलिए 2 हजार रुपए के नए नोट अब जारी नहीं किए जाएंगे। इस मामले में सरकार के बैकफुट पर आने के और भी कई कारण बताए जा रहे हैं।

एटीएम में नोट नहीं,  बैंकों में जमा कम हुई

देश में नवंबर 2016 के बाद एक बार फिर नोटों की कमी सामने आई। कई राज्यों में एटीएम पर फिर से लाइनें नजर आई। सरकार का दावा है कि पर्याप्त मात्रा में नोट प्रचलन में है, तो फिर एटीएम पर लाइनें क्यों? यह अहम सवाल उठ रहा है।

रिजर्व बैंक की रिपोर्ट बताती है कि बैंकों में एफडी के रुप में जमा कम हुई। यानि लोगों का पैसा बैंकों में जा नहीं रहा। ऐसे में वह कहां इन्वेस्ट हो रहा है? जबकि प्रोपर्टी मार्केट, गोल्ड मार्केट सभी इस समय सुस्त है।

जानकारों का कहना है कि नोटबंदी के बाद देश में कालेधन के रूप में अब दो हजार रुपए के नोट का उपयोग बढ़ रहा है। इस कालेधन का उपयोग विधानसभा चुनाव में होगा। देश के पांच प्रमुख राज्यों में विधानसभा चुनाव दिसंबर में होने है। ऐसे में नोटों की अवैध जमाबंदी की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है।

Leave a Comment

City Market News (सिटी मार्केट न्यूज़)
City Market News is a business news portal. Here you will get to read news in Hindi covering all the buzz and happenings of local business world. You may also publish your own business offers on this portal.