20 C
Jaipur
October 24, 2018
City Market News
Home » गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम में ऐसे कर सकते कमाई
Guide For You

गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम में ऐसे कर सकते कमाई

गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम (GMS) सरकार ने 2015 में शुरु की थी। GMS में घर में रखे गोल्ड पर ब्याज मिलता है। इतना ही नहीं लॉकर का भी खर्च भी आप बचा सकते है।

गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम (GMS) केंद्र सरकार ने 2015 में शुरू की थी। इस योजना का फायदा तिरुपति बालाजी मंदिर समेत देश के कई नामी मंदिरों के ट्रस्ट उठा रहे है। निजी स्तर पर भी कई लोग इस योजना का लाभ उठा रहे है। पिछले दिनों रिजर्व बैंक आॅफ इंडिया (RBI) ने गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम (GMS) को लेकर कुछ बदलाव किए है। इसका मकसद GMS को और अधिक आकर्षक बनाना है। आइए, जानते है क्या गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम।

क्या है गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम?

Gold Monetization Scheme (GMS) में घर में रखे गोल्ड को बैंक में जमा कर सकते हैं। इस पर आपको बैंक ब्याज देंगे। इस स्कीम की खास बात यह भी है कि यह सोना आपको लॉकर में रखने की जरुरत नहीं है। लॉकर का खर्च बचने के साथ ही निश्चित ब्याज भी मिलता है। GMS में कम से कम 30 ग्राम 995 शुद्धता वाला सोना बैंक में रखना होगा। इसमें बैंक गोल्ड-बार, सिक्के, गहने (स्टोन्स रहित और अन्य मेटल रहित) मंजूर करेंगे। यह गोल्ड आप पांच दिन से लेकर 12 साल तक के लिए रख सकते है। इस पर 2.25 से 2.50 फीसदी ब्याज मिलता है।

देश को यह फायदा होता है

सरकार का गोल्ड मॉनेटाइजेशन स्कीम शुरू करने का उदेश्य सोने की जरूरत के लिए आयात पर निर्भरता कम करना था। सोने का आयात बढ़ने से देश का CAD (चालू खाता घाटा) बढ़ता है। जबकि देश में कई हजार टन सोना घरों में, मंदिरों में पड़ा है। इस सोने का इस्तेमाल देश की अर्थव्यव्स्था में नहीं हो पाता। इसीलिए सरकार अब इस जमा सोने को अर्थव्यवस्था में वापस लाने के लिए प्रोत्साहन दे रही है।

Leave a Comment

City Market News (सिटी मार्केट न्यूज़)
City Market News is a business news portal. Here you will get to read news in Hindi covering all the buzz and happenings of local business world. You may also publish your own business offers on this portal.