20 C
Jaipur
October 24, 2018
City Market News
Home » चीन और अफ्रीका के बाजार पर है भारतीय फार्मास्‍यूटिकल कं‍पनियों की नजर
Pharmaceutical

चीन और अफ्रीका के बाजार पर है भारतीय फार्मास्‍यूटिकल कं‍पनियों की नजर

वाणिज्‍य मंत्री सुरेश प्रभु ने मंगलवार को नई दिल्‍ली में ‘iPHEX’ का उद्घाटन किया। सुरेश प्रभु ने कहा कि मंत्रालय वैश्विक स्‍तर पर भारतीय फार्मास्‍यूटिकल्‍स उद्योग को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है।

वाणिज्‍य मंत्री सुरेश प्रभु ने नई दिल्‍ली में ‘iPHEX’ का उद्घाटन किया। सुरेश प्रभु ने कहा कि मंत्रालय वैश्विक स्‍तर पर भारतीय फार्मास्‍यूटिकल्‍स उद्योग को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है।

फार्मा एवं हेल्‍थकेयर की छठी वार्षिक अंतर्राष्‍ट्रीय प्रदर्शनी iPHEX में 130 देशों के 650 से भी अधिक प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं। केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि चीन समेत कई देश ऐसे हैं जहां अभी भारतीय फार्मास्‍यूटिकल उत्‍पादों का निर्यात नहीं हो रहा है। इन देशों में भारतीय दवा उद्योग की पैठ बनाने के लिए कदम उठाए जाएंगे। इस संबंध में एक उच्‍चस्‍तरीय द्विपक्षीय गोलमेज सम्‍मेलन आयोजित करने पर सहमती बनी है।

सुरेश प्रभु ने वैश्विक फार्मास्‍यूटिकल कं‍पनियों एवं नियामकों को सर्वोत्तम गुणवत्तापूर्ण एवं किफायती भारतीय दवाओं को लेकर आश्‍वस्‍त किया। उन्‍होंने नए बाजारों खासकर अफ्रीका के बाजारों में पहुंच सुनिश्चित करने की जरूरत पर विशेष बल दिया जहां दवाओं का किफायती होना एक बड़ा मुद्दा है। उन्‍होंने कहा कि भारतीय निर्यातक इस पैमाने पर खरे उतर सकते हैं। इस अवसर पर वाणिज्‍य सचिव रीता तेवतिया ने कहा कि फार्मास्‍यूटिकल क्षेत्र में एकसमान गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं।

क्लिनिकल परीक्षण के अनुमोदन प्रोटोकॉल में परिवर्तन

‘कारोबार में सुगमता’ बेहतर करने के लिए उठाए गए कदमों का उल्‍लेख करते हुए भारत के औषध महानियंत्रक डॉ. ईश्‍वर रेड्डी ने जीएमपी (अच्छी उत्पादन कार्यप्रणाली) प्रमाणपत्र की वैधता को दो साल से बढ़ाकर तीन साल करने की घोषणा की। उन्‍होंने यह भी कहा कि क्लिनिकल परीक्षण के अनुमोदन से जुड़े प्रोटोकॉल में भी परिवर्तन किया गया है। इसके तहत 45 दिनों की समयसीमा तय की गई। यदि इस समय सीमा के भीतर मंजूरी प्राप्‍त नहीं होती है तो प्रोटोकॉल को स्‍वीकृत मान लिया जाएगा।

भारतीय फार्मास्यूटिकल्स निर्यात संवर्धन परिषद (फार्मेक्सिल) के अध्‍यक्ष मदन मोहन रेड्डी ने विश्‍वास जताया कि उत्‍पादन की प्रतिस्‍पर्धी लागत की बदौलत भारत में वैश्विक व्‍यवसाय को बनाए रखा जाएगा। उन्‍होंने भारत को फार्मास्‍यूटिकल्‍स क्षेत्र में वैश्विक विनिर्माण का मुख्‍य स्रोत बनाने हेतु उठाए गए विभिन्‍न कदमों के लिए वाणिज्‍य एवं उद्योग मंत्रालय की सराहना की।

फार्मेक्सिल के उपाध्‍यक्ष दिनेश दुआ ने कहा कि भारत जल्द ही जेनेरिक के अलावा अभिनव दवाओं के क्षेत्र में भी एक ऐसी ताकत बनकर उभरेगा, जिसका लोहा पूरी दुनिया मानेगी।

Leave a Comment

City Market News (सिटी मार्केट न्यूज़)
City Market News is a business news portal. Here you will get to read news in Hindi covering all the buzz and happenings of local business world. You may also publish your own business offers on this portal.